RSS Ki Full Form Kya Hai | Full form of RSS | What is the history of RSS | How to join RSS

हिंदुस्तान का सबसे बड़ा तथा सबसे सर्वश्रेष्ठ संगठन जोकि RSS (आरएसएस) है, RSS Ki Full Form और दोस्तों इस RSS (आरएसएस) संगठन के द्वारा हिंदुस्तान को Prosperous, हिंदू सनातन संस्कृति के मूल्यों के Promotion का ये RSS (आरएसएस) संगठन प्रचार किया जाता है क्योंकि दोस्तों RSS (आरएसएस) संगठन ने हमेशा से जो हमारे देश में  में फैली हुई हर वर्ग में जो भेद भाव है, उसका ये संगठन सदा विरोध करता है और करता रहता है, और दोस्तों RSS (आरएसएस) संगठन यह वर्ग मे कोई भी भेद या फिर जाति मे भेद व ऊँच-नीच के भेदभाव को पूरी तरह से नष्ट करना चाहता है|

RSS Full Form

भारत से दोस्तों RSS (आरएसएस) संगठन ने इसके लिए इसने बहुत ही प्रयास किये है और कर भी रहा है, RSS (आरएसएस)इस संगठन में योगासन समता, मण्डल समता, गण समता, दण्ड प्रदर्शन, नियुद्ध व घोष काफी तरह के प्रदर्शन किये जाते है, और दोस्तों यह संगठन कोई भी आपदा हो भारत में उस आपदा से लड़ने का काम भी RSS (आरएसएस). करती है यह संगठन समय-समय पर बहुत बड़ी कारनामे करता है, दोस्तों आपने देखा होगा कि कुछ टाइम पहले बिहार में आपदा आ गई थी, लोग भूखे रहने लगे थे उस समय RSS (आरएसएस) संगठन ने जाकर लोगों की बहुत ही हेल्प करी तथा लोगों के बचाव के लिए बहुत ही प्रयास किए थे|

 RSS का एक ही काम है वह है हर वर्ग के लोगों को साथ में लेकर चलना ऊंच-नीच से छुटकारा देना तथा गरीब लोगों तक सहायता पहुंचाना है, और समय RSS (आरएसएस) के द्वारा बड़े ही स्तर पर बहुत सी सहायता प्रदान की जाती है, दोस्तों इस आर्टिकल में आपको (आरएसएस) का RSS Ki Full Form  क्या है, RSS (आरएसएस) का मतलब क्या होता है,  (आरएसएस) RSS Full Form के विषय में सारी की सारी जानकारी आपको प्रदान की जा रही है |

 RSS (आरएसएस) का Full Form क्या है?

अपको बता दूं कि दोस्तों RSS (आरएसएस) का Full Form ( Rashtriya Swayamsevak Sangh ) है, और दोस्तों इस नाम को इंग्लिश में इसी नाम से जाना जाता है,और RSS (आरएसएस) को हिंदी में (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) नाम से जाना जाता है, इस संगठन से भरता सरकार का कोई लेना देना नहीं होता है, यह संगठन सिर्फ और सिर्फ हिंदू राष्ट्रवादी है,जब  इसका निर्माण हुआ था केवल और केवल हिंदू हितो के लिए किया गया था, इस संगठन का सिर्फ और सिर्फ एक ही मूल आधार है वह है हिंदू धर्म की रक्षा करना है, और यह संगठन अर्धसैनिक स्वयंसेवक के रूप में अपना काम करता है, दोस्तों आज के समय में इस संगठन को हर कोई जानता है

चाहे वह भारत हो या फिर वर्ल्ड में हर कोई इस संगठन को जानता है, हिंदू समाज के लोगों को इसके द्वारा बहुत ही सहायता प्राप्त होती है, यह संगठन इस टाइम अन्य धर्मों को भी नहीं छोड़ता नहीं है यह संगठन उनकी भी सहायता करता है, चाहे वह किसी धर्म से हो जैसे कि हिंदू या फिर मुस्लिम, सीख, इसाई, संपर्क के लिए यह संगठन काम करता है,

RSS :- Rashtriya Swayamsevak Sangh

ये RSS का  Rashtriya Swayamsevak Sangh यह नाम English में होता है,

RSS :- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

और ये RSS का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यह नाम हिन्दी मे होता है,

RSS का Full Form आपको अब पता ही चल गया है,

RSS (आरएसएस) को कैसे Join करें ?

दोस्तों आपके मन में भी यह सवाल आया होगा कि RSS (आरएसएस) के संगठन को कैसे ज्वाइन करें हम, आखिरकार RSS (आरएसएस) को लोग कैसे ज्वाइन करते हैं, यह सारे के सारे सवालों के जवाब आज हम इस आर्टिकल में बताएंगे कि आप कैसे RSS (आरएसएस). को ज्वाइन कर सकते हैं,

दोस्तों RSS (आरएसएस) में शामिल होने के लिए कोई भी सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं होती है, और यह भी जरूरी नहीं है कि आपने कितनी पढ़ाई करी है कितनी नहीं इस प्रकार का आपसे कोई भी सवाल जवाब नहीं किया जाता है, और आप भी RSS (आरएसएस). में शामिल होना चाहते हैं तो एक बहुत ही आसान तरीका है, यह RSS (आरएसएस) संगठन 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को देश के प्रति प्यार तथा हिंदुत्व के लिए हिंदुओं के गुण सिखाता है, और दोस्तों RSS (आरएसएस). संगठन ने अपने विचार तथा देश की भावना भरने के लिए बालभारती और बाल गोकुल कार्यक्रम चलाता है,

यह कार्यक्रम बड़े-बड़े विश्वविद्यालय मैं चल रहे हैं इसका एक ही मतलब है की यूनिवर्सिटी के छात्रों को अपने प्रति आकर्षित करना है, इस संगठन से प्रतिदिन हजारों की तादाद में छात्र तथा अन्य लोग जोड़ते जा रहे हैं, और इसमें शामिल होने के लिए RSS (आरएसएस) संगठन की प्रतिदिन और सप्ताहिक और महीने की गतिविधियों में शामिल होना पड़ता है, आर RSS (आरएसएस) की शाखाएं आपको हर क्षेत्र में मिल जाएगी जैसे विभाग, जिले, प्रदेश, और अन्य केंद्रों पर आसानी से मिल जाएगी,

RSS (आरएसएस) की स्थापना कौन ने और कब करी?

RSS (आरएसएस) संगठन की स्थापना केशव बलिराम हेडगेवार के द्वारा सन 27 सितंबर वर्ष 1925 को की गई थी, दोस्तों RSS (आरएसएस). संगठन के द्वारा विजयदशमी का त्यौहार बड़ी उत्सव से मनाया जाता है, क्योंकि दोस्तों RSS (आरएसएस) संगठन की स्थापना विजयदशमी वाले दिन ही की गई थी, RSS (आरएसएस) का बड़ा मुख्यालय नागपुर शहर महाराष्ट्र में स्थित है, नागपुर जोकि महाराष्ट्र में है, आपको एक बार फिर बता दूं कि दोस्तों इस संगठन से जुड़ने के लिए कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है, इस संगठन की सदस्यता लेना बहुत ही आसान है,

 RSS (आरएसएस) का इतिहास क्या है?

RSS (आरएसएस) संगठन के संस्थापक केशव बलराम हेडगेवार ने की थी,इस RSS (आरएसएस) संगठन का सिर्फ और सिर्फ एक ही लक्ष्य है बह है, की भारत को हिंदू राष्ट्र के रूप में स्थापित करना है, जब यह संगठन बना था उस समय इस संगठन के सदस्य मात्र 17 थे, जो कि इस समय इस संगठन से लगभग करोड़ों लोग जुड़े हुए हैं भारत में तथा अन्य देशों में भी, दोस्तों RSS (आरएसएस) संगठन का नामकरण 17 अप्रैल 1926 को (राष्ट्रीय सेवा संघ) नाम के रूप में किया गया था जो कि आज हम बोलते हैं RSS (आरएसएस) इस संघ की स्थापना के समय जो लोग थे वह कुछ इस प्रकार थे,

जैसे केशव बलराम हेडगेवार, विश्वनाथ केलकर, भाऊजी कावरे, अत्रा सहने, बालाजी हुछार, तथा बापूराव भेदी अन्य लोग शामिल थे, दोस्तों यह संगठन विश्व का सबसे बड़ा संगठन है, स्थापना के उपरांत केशव बलराम हेडगेवार जी को महात्मा गांधी जी का एक प्रस्ताव आया था उस प्रस्ताव में गांधी जी ने लिखा था कि आप मुसलमानों के साथ मिलकर लड़ाई लड़ें यह है देखकर केशव बलराम हेडगेवार जी ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था, दोस्तों आजादी के समय इस RSS (आरएसएस) संगठन ने बढ़ चढ़कर भाग लिया था, और अंग्रेजों से बहुत ही डटकर सामना किया था, इस समय RSS (आरएसएस) संगठन के लीडर हैं वह है मोहन भागवत उनकी देखरेख में यह संगठन चल रहा है,

आपने क्या सीखा आज?

गर दोस्तों आपके मन में इस आर्टिकल को लेकर कोई भी Doubts हो तो आप चाहते हैं कि इसमें कुछ सुधार हो सेके तो आप नीचे Comment करके हमको आप बता सकते हैं,

यदि आपको दोस्तों इस Post में RSS (आरएसएस) संगठन से जुड़ी जानकारी पसंद आई हो तो और आपको कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया करके इस Post को Social Networks जैसे की WhatsApp, Messenger, Twitter, Instagram, Facebook, आदि दूसरे Social Media पर Share करें

आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Read Also:- Mobile Me TV Kaise Chalaye | मोबाइल फोन में Free TV कैसे?

Read Also:- ANM Full Form In Hindi / ANM Kya Hai In Hindi?

 

Leave a Comment